सोचने का अंदाज़ बदलो,बस

Uncategorized

सोचने का अंदाज़ बदलो
दुनिया बदल जायेगी
शुलों को गुलों में बदलते चलो
मंजिल खुद दोड़ी चली आएगी
दुश्मन को भी दोस्त बनाते चलो
दोस्ती की मिसाल बड़ जायेगी
सोचने का अंदाज़ बदलो
दुनिया बदल जायेगी
लहरों से दिल लगाते चलो
समंदर से पहचान बड़ जायेगी
आसमानों में ख़ुशी के दीप जलाते चलो
अंधेरों की घटा छट जायेगी
सोचने का अंदाज़ बदलो
दुनिया बदल जायेगी
गुरुओं की शरण में समाते चलो
ज्ञान की गंगा बड़ जायेगी
माँ-बाप की सेवा करते चलो
जन्नत नसीबों में छा जायेगी
सोचने का अंदाज़ बदलो
दुनिया बदल जायेगी
बच्चों पे प्रेम लुटाते चलो
खुदा से रूबरू रूह हो जायेगी
दिन-दुखियों का दर्द मिटाते चलो
दुवाओं से झोली भर जायेगी
सोचने का अंदाज़ बदलो
दुनिया बदल जायेगी
मीठा गीत कोई गाते चलो
गले की खराश मिट जायेगी
हर इम्तहान में आत्मविश्वास जगाते चलो
मेहनत जरुर रंग लाएगी
सोचने का अंदाज़ बदलो
दुनिया बदल जायेगी
निगाहों में ख्वाब कोई सजाते चलो
सुबह से मिलने हकीकत बेशक आएगी
हर पल एक हाथ नया मिलाते चलो
सारी कायनात आघोष में सिमट आएगी
सोचने का अंदाज़ बदलो
दुनिया बदल जायेगी !



READ  Crime Poetry in Hindi: दर्द का बाज़ार है,ज़ख्मो का व्यापार है

Leave a Reply

Your email address will not be published.