Month: February 2016

Mother's day womb Poetry

Best Mother’s womb Poetry: अच्छा लगता था माँ की कोख में

Mother’s womb Poetry आँखे खुलते मैंने ये क्या देखा— कोई डूबा हुआ है शौक में, कोई रो रहा है रोग में, कोई भोंक रहा है भोग में, कोई तड़प रहा है वियोग में, क्यूँ आ गया मै इस भूलोक में […]

Continue Reading
Love Poetry in Hindi freaky funtoosh

Love Poetry in Hindi: मै उसकी अदाओं का आशिक

Love Poetry in Hindi तितलियों पर सवार हो,उड़ती हुई आएगी वो, गुलशनो से गुलों का अर्क लबों पे समेट लाएगी वो,   तड़पायेगी,तरसाएगी,और थोड़ा गुरुर में गरमाएगी वो, चुपके से विरानो में, हल्के से कानो में शरमाएगी वो,   बहारों […]

Continue Reading