Old Age Romantic Poetry: महज चेचिस पर ही झुर्रियों ने ली…

Old Age Romantic Poetry in Hindi

महज चेचिस पर ही झुर्रियों ने ली अंगड़ाई है
महज हाड़-मांस में ही कल-पुर्जों की हुई घिसाई है
बाखुदा मोहब्बत तो आज भी कतरे-कतरे में उफान पर है
इस नामुराद जमाने ने हम पे बुड़ापे की सिल लगाईं है
यूँ तो तज़ुर्बा जवानी का बेशुमार रहा इस ख़ादिम को
 
यूँ तो हुस्न की अनारकलियों ने दिलो-जान से चाहा इस सलीम को
लेकिन अब इन बदनों की हवस से दिलों की हुई रुसवाई है
हम अपने इश्क की मिसाल क्या दे तुमको ऐ जहां वालों
हम अपने हुनर को कैसे सोंप दे तुमको ऐ जहां वालों
डूबकर किया है इश्क ये मुलाक़ात उसी की सच्चाई है !
 

Read more interesting stuff…

Painful Poetry: जाने क्यूँ ये दर्द,मीठा-मीठा-सा लगता है

Funny Buffalo Poetry: भैंस के दूध से एड्स ठीक हो जाता है क्यूँ?

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Top 10 interesting facts about Dallas Cowboys Top 10 secrets about Rihanna Watch Heart of Stone First Look: Gal Gadot & Alia Bhatt Top 10 Secrets About Cherry Valentine Watch first look at Emma D’Arcy House of the Dragon