Son & Daughter Day Poem-माँ की खोज में

Son & Daughter Day Poem in Hindi

पूरबपश्चिम,उत्तरदक्षिण,
दरदर दिशा नापता हूँ रोज मै,
बस माँ की खोज में |
          पर्वतपहाड़,
          झीलसमंदर,
          दरदर भटकता हूँ रोज मै,
          बस माँ की खोज में |
 
चाँदसूरज,
धराअम्बर,
दरदर तकता हूँ रोज मै,
बस माँ की खोज में |
 
                                                                    फलफूल,नदीजंगल,
           दरदर पता पूछता हूँरोज  मै,
          बस माँ की खोज में |
 
        पशुपक्षी,
       किटपतंगा,
       दरदर सुनता हूँ रोज मै,
       बस माँ की खोज में |
 
                             मंदिरमस्ज़िद,
                             काबाकैलाश,
                             दरदर शीश झुकाता हूँ रोज मै,
                             बस माँ की खोज में |
 
             गीतग़ज़ल,
             बोलभजन,
             दरदर सुनता हूँ रोज मै,
             बस माँ की खोज में |
 
रिश्तेनाते,
दोस्तीयारी,
दरदर निभाता हूँ रोज मै,

                       बस माँ की खोज में |   

Son & Daughter Day Poem Video

              Read more interesting stuff…

Son and Daughter Day-मैंने माँ को देखा है

Mothers Day Poem-My heaven is only under your feet

One thought on “Son & Daughter Day Poem-माँ की खोज में

  1. This article opened my eyes, I can feel your mood, your thoughts, it seems very wonderful. I hope to see more articles like this. thanks for sharing.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Next Post

Sun poetry in hindi: दास्ताने-दिनकर,युगों-युगों से सिने में

Thu Aug 11 , 2022
Sun poetry in Hindi युगों–युगों से सिने में आग लिए, मैं पल–पल जलता–पिघलता हूँ, किसे सुनाऊं“दास्ताने–दिनकर“, कैसे सांझ–सवेरे ढलता निकलता हूँ | चन्दा–चकोरी की, प्रेम […]
sun poetry in hindi freaky funtoosh

You May Like

Top 10 Less Known Facts About Vijay Antony Mythological Secrets Why Ganesh Chaturthi is celebrated for 10 days Top 10 Women’s Hairstyles To Attract Men What is Rosh Hashanah? 10 Interesting Facts Top 10 Interesting Facts About Pramod Madushan