Good News! 5G Trials के लिए सरकार ने 13 आवेदनों को दी मंजूरी

5G Trials: 2G, 3G, 4G और अब देश में नए युग की संचार सेवा यानी 5 जी इस साल शुरू हो सकती है। फिलहाल, सरकार ने देश में 5G परीक्षणों के लिए 13 आवेदनों को मंजूरी दी है। मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक, Huawei और ZTE जैसी चीनी कंपनियों को 5G Trials से बाहर रखा गया है। दूरसंचार विभाग को 5 जी परीक्षणों के लिए कुल 16 आवेदन मिले थे।

5G Trials  के लिए BSNL ने C-DoT के साथ साझेदारी की

मिली जानकारी के अनुसार, सरकारी दूरसंचार कंपनी भारत संचार निगम लिमिटेड (BSNL) ने 5G ट्रायल के लिए सेंटर फॉर डेवलपमेंट ऑफ टेलीमैटिक्स (C-DoT) के साथ साझेदारी की है। टेलीमैटिक्स का विकास केंद्र भारत सरकार का दूरसंचार प्रौद्योगिकी विकास केंद्र है। यह 1984 में स्थापित किया गया था।

एक वरिष्ठ अधिकारी के अनुसार, भारती एयरटेल, वोडाफोन-आइडिया और रिलायंस जियो ने एरिक्सन और नोकिया के विक्रेताओं के साथ भागीदारी की है। सभी टेलीकॉम सर्कल के लिए विभिन्न विक्रेताओं के साथ साझेदारी की गई है। सरकार परीक्षण के लिए 13 आवेदनों को मंजूरी देती है, और Huawei-ZTE जैसी चीनी कंपनियों से दूरी बनाई है। 

जल्द ही 5G Trials के लिए एयरवेव दी जाएगी

एक अधिकारी का कहना है कि टेलीकॉम कंपनियों को जल्द ही 5G ट्रायल के लिए 700 MHz बैंड के एयरवेव दिए जाएंगे। हालांकि, इसके साथ कुछ शर्तें भी शामिल होंगी। अधिकारी के अनुसार, कंपनियों को शहरी और ग्रामीण क्षेत्रों में परीक्षण जैसी शर्तों का पालन करना होगा। साथ ही नेटवर्क की सुरक्षा पर विशेष ध्यान देना होगा।

5 जी एयरवेव का व्यावसायिक उपयोग नहीं होगा

अधिकारी के मुताबिक, टेलीकॉम कंपनियों को सख्त चेतावनी दी जाएगी कि एयरवेव का इस्तेमाल केवल ट्रायल के लिए किया जाएगा। इन तरंगों का व्यावसायिक उपयोग बिल्कुल नहीं किया जाना चाहिए। अगर कंपनियां इन शर्तों का उल्लंघन करती हैं, तो उन्हें गंभीर परिणाम भुगतने होंगे।

रिलायंस जियो 2021 की दूसरी छमाही में 5 जी लॉन्च कर सकती है

भारतीय मोबाइल कांग्रेस 2020 में, रिलायंस इंडस्ट्रीज (आरआईएल) के अध्यक्ष मुकेश अंबानी ने कहा था कि रिलायंस जियो की योजना 2021 जुलाई-दिसंबर में 5 जी लॉन्च करने की है। उन्होंने आगे कहा कि इसे बनाए रखने के लिए कदम उठाने की जरूरत है। देश में डिजिटल लीड, 5 जी को पेश करना और इसे सस्ता और हर जगह उपलब्ध कराना। Jio 2021 की दूसरी छमाही में भारत में 5G क्रांति का नेतृत्व करेगा। यह एक स्वदेशी रूप से विकसित नेटवर्क होगा, जो हार्डवेयर और प्रौद्योगिकी घटकों द्वारा संचालित होगा।

Reliance Jio ने अमेरिका में सफल 5G Trials किया है

 अंतर्राष्ट्रीय जानकारी के अनुसार, Reliance Jio, US प्रौद्योगिकी फर्म क्वालकॉम के सहयोग से, अमेरिका में अपनी 5G तकनीक का सफलतापूर्वक परीक्षण कर चुका है। रिलायंस जियो के अध्यक्ष मैथ्यू ओमान ने क्वालकॉम इवेंट में कहा कि हम क्वालकॉम और रिलायंस की सहायक कंपनी रेडिसिस पर 5 जी तकनीक पर काम कर रहे हैं, ताकि इसे जल्द ही भारत में लॉन्च किया जा सके। वर्तमान में, संयुक्त राज्य अमेरिका, दक्षिण कोरिया, ऑस्ट्रेलिया, स्विट्जरलैंड और जर्मनी जैसे देशों के 5G ग्राहकों को दुनिया भर में 1Gbps इंटरनेट स्पीड की सुविधा मिल रही है।

फ़िलहाल इन देशों में 5G सेवा उपलब्ध है

5G Trials सबसे पहले दक्षिण कोरिया, चीन और संयुक्त राज्य अमेरिका में पेश किया गया था। हालांकि भारत 5G का परीक्षण शुरू करने की तैयारी कर रहा है, लेकिन यह सेवा 68 देशों या उनकी सीमाओं में शुरू हो चुकी है। इसमें श्रीलंका, ओमान, फिलीपींस, न्यूजीलैंड जैसे कई छोटे देश भी शामिल हैं।

यह भी पढ़ें…

Bill Hwang Story: बिल की बर्बादी की कहानी, 2 दिन में गवांए 20 बिलियन $

ऐसे लें 2 मिनट में 2 लाख का पेटीएम लोन

Online Shopping: शॉपिंग करते हैं तो हो जाए सावधान!

Digital Marketing with uncountable bucks and benefits

Indian Rupee History: इंडियन रुपये की कैसे बनी पहचान

Tesla with bitcoin: बिटकॉइन से खरीद सकते हैं Tesla कार

 
CLICK  Shocking Fact: जानिए एक सेकंड में क्या-क्या होता है?

Related Posts

Britney Spears Hot Dancing Video!