Indian Rupee History: इंडियन रुपये की कैसे बनी पहचान

Indian Rupee History: पैसा ये पैसा, कैसा है ये पैसा ? धन आग्रह की ऐसी विषय वस्तु है जिसके पीछे दुनिया दौड़ती है। इसके बिना कुछ होता भी नहीं है। यह भी सत्य है कि बिना पैसे के आजकल कोई काम नहीं बनता,मतलब अपना सपना मनी-मनी । आज हम आपको रुपये की शुरूआत से लेकर आज तक की विशेष जानकारी से रूबरू कराएंगे।
 

Indian Rupee History

 
हमारे भारत में करंसी का इतिहास लगभग 2500 साल पुराना हैं। इसकी शुरूआत बहुत पहले एक राजा द्वारा की गई थी।
 
Indian Rupee History
 
यदि आपके पास फिलहाल आधे से ज्यादा फटा हुआ नोट है तो भी आप बैंक में जाकर उसे बदल सकते हैं।
सन 1917 में 1 रुपया का मूल्य लगभग 13 डॉलर के बराबर हुआ करता था और फिर 1947 में रुपया हो गया एक डॉलर के बराबर । और समय के साथ फिर धीरे-धीरे इंडिया पर कर्ज बढ़ने लगा तो उस समय इंदिरा गांधी ने कर्ज चुकाने के लिए रूपये की कीमत तुरंत कम करने का अहम फैसला लिया जिसके बाद आज तक भारतीय रूपये की कीमत सतत घटती आ रही हैं।
 
Indian Rupee History freaky funtoosh
 
अगर उस समय अंग्रेजों का बस चला होता तो आज इंडिया की करंसी पाउंड होती। लेकिन रुपए की मजबूती के चलते ऐसा संभव न हो सका।
इस समय की अगर हम बात करे तो भारत में लगभग 400 करोड़ रूपए के नकली नोट घूम रहे हैं।
एक और खास बात कि आपको भारतीय नोट के सीरियल नंबर में I, J, O, X, Y, Z जैसे अक्षर कभी नही देखने को मिलेंगे। ये सुरक्षा के कारणों के चलते होगा ।
 
Indian Rupee History freaky funtoosh
 
आप जानते है हर हिंदुस्तानी नोट पर किसी न किसी विषय वस्तु की फोटो छपी होती हैं जैसे बात करें 20 रुपए के नोट कि तो इस पर अंडमान आइलैंड की तस्वीर होती है । और 10 रुपए के नोट पर हाथी कि फोटो, गैंडा और शेर भी छपा हुआ होता है, वहीं जबकि 100 रुपए के नोट पर पहाड़ और बादल की इमेज होती है। इसके साथ ही 500 रुपए के नोट पर हमारे देश की आजादी के समय आंदोलन से जुड़ी 11 मूर्तियों की तस्वीर छपी होती हैं।
आपको यह जानकार आश्चर्य होगा कि हिंदुस्तानी नोट पर उसकी कीमत लगभग 15 विविध भाषाओं में लिखी जाती हैं, जो कि काफी विचित्र है ।
 
Indian Rupee History freaky funtoosh
 
एक विशेष बात जो यह कि 1 रूपए में 100 पैसे होगे यह 1957 में लागू किया गया था। और शुरुआत मे इसे 16 आने के रूप मे में बाँटा जाता था।
हमारे देश की RBI, ने जनवरी 1938 में प्रथम बार रूपए की पेपर करंसी छापी थी। और  इसी साल 10,000 रूपए का नोट भी छापकर मार्केट मे लाया गया था लेकिन फिर इसे सन 1978 मे पूरी तरह बंद कर दिया गया।
हमारी आजादी के बाद पाकिस्तान देश ने तब तक इंडियन मुद्रा का प्रयोग किया जब तक कि उन्होनें अपने काम चलाने लायक नोट न छाप लिए।
 
Indian Rupee History freaky funtoosh
 
भारतीय नोट किसी आम कागज से नहीं बनते है बल्कि कॉटन के बने होते हैं। यह नोट  इतने मजबूत और टिकाऊ होते हैं कि आप नए नोट के दोनो सिरों को पकड़कर भी उसे फाड़ नही पाएंगे।
रोचक बात कि एक समय ऐसा भी आया था, जब पड़ोसी देश बांग्लादेश ब्लेड बनाने के लिए इंडिया से 5 रूपए के सिक्के मंगवाता था। बता दे कि 5 रूपए के एक सिक्के से 6 ब्लेड उस समय बनते थे और 1 ब्लेड की कीमत लगभग 2 रूपए होती थी जिससे ब्लेड बनाने वाले मालिकों को अच्छा फायदा होता था। इन कारणो को देखते हुए इंडियन गवर्नमेंट ने सिक्का बनाने वाला वह मेटल ही बदल दिया था ।
 
Indian Rupee History freaky funtoosh
 
फिर हमारी आजादी के बाद सिक्के तांबे के बनने लगे । उसके बाद 1964 में एल्युमिनियम के और 1988 में स्टेनलेस स्टील सिक्के चलन मे आए।
एक और खास बात यह कि भारत के 500 और 1,000 रूपये के नोट पड़ोसी देश नेपाल में नही चलते है ।
आजाद इंडिया में 75 रुपये, 100 रुपये और 1000 रुपये के भी सिक्के छप चुके हैं।
एक रुपए  का नोट भारत सरकार द्वारा और 2 से 1,000 रूपए तक के नोट हमारी RBI द्वारा जारी किये जाते हैं.
 

Indian Rupee History

 
Indian Rupee History freaky funtoosh
भारतीय नोटो पर सीरियल नंबर इसलिए डालते हैं ताकि आरबीआई को जानकारी मिलती रहे कि इस वक्त बाजार में कितनी करंसी विध्यमान हैं।

रुपया हमारे भारत के अलावा इंडोनेशिया, मॉरीशस, नेपाल, पाकिस्तान और श्रीलंका मे भी हैं।

Top 10 Interesting Facts About Prime Minister Rishi Sunak Top 10 Interesting Facts About Dwayne Johnson Top 10 Interesting Facts About Black Adam House of the Dragon Episode 9 Recap Daddy Issues