Drunk Student Poetry: उठो लल्लू दारु लाया कुल्ला कर लो

Drunk Student Poetry in Hindi

उठो लल्लू

    अब आँखे खोलो
                दारू लाया
                कुल्ला कर लो
          बीती रात बहुत चड़ाई

                              

         तुमने की ना रत्ती भर पढाई
         एक्ज़ाम का वक्त है भाई
        खोलो पोथी पुस्तक
         २-४ आखर पडलो साईं
           टॉप तो मार ना पाओगे
          चिट नहीं बनाई तो
            पास भी नहीं हो पाओगे
               होंश में आओ लल्लू
              बंद करो अब बनना उल्लू
              ओ ढर्रों पव्वों के गणपत
           अच्छी नहीं सुट्टों की लत
              फिर ना गिडगिडाना कि
              तुमने बताया नहीं दोस्त
              तुमने बताया नहीं दोस्त 
                

Read more interesting stuff…