Ramadan Eid poem: आपको मुबारक हो माहे-रमजान

Ramadan Eid poem in hindi

मेरी अजीज़ अम्मी, मेरे अजीज़ अब्बूजान  

मेरी प्यारी आपा, मेरे प्यारे भाईजान

तुम सब को मुबारक हो माहे-रमजान…

तुम सब को मुबारक हो माहे-रमजान…|

Ramadan Eid poem in hindi
 
निगाहों को था जिसका बेसब्री से इंतज़ार
माहे-रमजान के लिए हर शख्स था बेकरार
लो आसमां में निकला चाँद, हो गए दीदार |
तुम सब को मुबारक हो माहे-रमज़ान…
तुम सब को मुबारक हो माहे-रमज़ान…|
 
 
इसी माह में अवतरित हुआ था पाक कुरान,
इसीलिए फरमाते है इसको माहे-रमज़ान,
खुदा के बन्दे नेकी करें और बदी से टलें,
बस यही है मेरे खुदा का अरमान |
तुम सब को मुबारक हो माहे-रमज़ान…
तुम सब को मुबारक हो माहे-रमज़ान…|
 
अल्लाह की इबादद में रोजा रखता हर इंसान,
जकात देता है दिल से हर मुसलमान,
पांचो पहर की नमाज़ है जिसका ईमान,
तुम सब को मुबारक हो माहे-रमज़ान…
तुम सब को मुबारक हो माहे-रमज़ान…| 

“Watch Amazing Ramadan Video”
 
 

Read more interesting stuff…

International yoga day: योगा से होगा, पर करना तो पड़ेगा