Son & Daughter Day Poem-माँ की खोज में

Son & Daughter Day Poem in Hindi

पूरब--पश्चिम,उत्तर--दक्षिण,
दर--दर दिशा नापता हूँ रोज मै,
बस माँ की खोज में |
          पर्वत--पहाड़,
          झील--समंदर,
          दर--दर भटकता हूँ रोज मै,
          बस माँ की खोज में |
चाँद--सूरज,
धरा--अम्बर,
दर--दर तकता हूँ रोज मै,
बस माँ की खोज में |
 
                                                                    फल--फूल,नदी--जंगल,
           दर--दर पता पूछता हूँरोज  मै,
          बस माँ की खोज में |
 
        पशु--पक्षी,
       किट--पतंगा,
       दर--दर सुनता हूँ रोज मै,
       बस माँ की खोज में |
 
                             मंदिर--मस्ज़िद,
                             काबा--कैलाश,
                             दर--दर शीश झुकाता हूँ रोज मै,
                             बस माँ की खोज में |
 
             गीत--ग़ज़ल,
             बोल--भजन,
             दर--दर सुनता हूँ रोज मै,
             बस माँ की खोज में |
 
रिश्ते--नाते,
दोस्ती--यारी,
दर--दर निभाता हूँ रोज मै,

                       बस माँ की खोज में |    

Son & Daughter Day Poem Video

                              
Read more interesting stuff…

Son and Daughter Day-मैंने माँ को देखा है

Mothers Day Poem-My heaven is only under your feet