Forbidden Love Poem: तू जिंदगी ना सही,तेरा एहसास…

Forbidden Love Poem: तू जिंदगी ना सही,तेरा एहसास…
देखो फिर आँखों में नमीसीछा गई है,
वो सूरत जोआँखों से ओझल हुई नहीं कभी,
वो यादें जो ख्यालों से दूर गई नहीं कभी,
आज वो चुपके से फिर ख़्वाबों में गई है,
Forbidden Love Poem

Forbidden Love Poem

खुदा जो चाहा मैंने वही तुने मुझको दिया,
जिसमे तुझको देखा मैंने वही तुने छीन लिया,
शिकायत नहीं तुझसे ये इल्तजा रह गई है,
जैसे जिन्दगी जहां अब थमीसी रह गई है,
बस जिन्दगी में उसकी कमीसी रह गई है…Pancho
 

Read more interesting stuff…

Romantic Thirst Poetry: जाने किस बरसात,बुझेगी मेरी प्यास

Romantic Rainfall Poetry: वो यूँही नही भीगने लगी बरसातों में

Leave a Reply

Your email address will not be published.