Google Search Poetry: मेरी जान-सर्च इंजन

Google Search Poetry: मेरी जान-सर्च इंजन

Google Search Poetry in Hindi

यु ट्यूब में नहाकर आई हो,

या देसी ठर्रा पीकर आई हो,

गूगल गम खाकर आई हो,

या कोलावेरी डी गाकर आई हो |

                              याहू का सिर्फ यम्मी यकिन हो,
                            या कामसूत्र की कमसिन हो,
                          रेडिफ का रंगीन सीन हो,
                        या दिल्ली मेट्रो की टाइमली ट्रेन हो |
 
    जी मेल का जोशीला जी हो,
   या जी-वन का जवाँ जी हो,
  हसीन हॉट-हॉट फीमेल हो,
या जुर्म की तिहाड़ जेल हो |

             अकबर का आस्क डोट कॉम हो,
            या हुसैन का डक-डक गो हो,
           माइक्रोसाफ्ट का हार्ड बिंग हो,
           या गोरी गाय का सिंग हो|

                         एक्सटरनली इंटरनेट एक्स्प्लोरर हो ,
                        या चांदनी रातों का नाईटमेयर हो,
                     यिप्पी-क्लस्टी का कमाल हो,
                   या जलेबी बाई की चाल हो |

  माहालो का मिर्च- मसाला हो,
 या नए दौर की मधुबाला हो,

 डोग्पाईल का  दर्दे-डिस्को हो,

 या कूल-कूल पेप्सिको हो |

                        वेबोपेडिया जैसी कोई बीमारी हो,
                    या भारतीय स्टाइल में विदेशी नारी हो,
                   ट्विटर का टोमेटो टेस्ट हो,
                 या बिच पर बिकनी में बेस्ट हो |
 
                     फेसबुक का फ्रेंडशिप पेक हो,
             या स्विस बेंक का ब्लेंक चेक हो,
      तुम जैसी भी हो,जो भी हो एक मौज हो,
जोइंट एडवेंचर की नॉन स्टॉप खोज हो  ।
                              

Read more interesting stuff…

Friendship Day Poetry: friends are the precious gift

Crime Poetry in Hindi: दर्द का बाज़ार है,ज़ख्मो का व्यापार है

READ  Old Age Romantic Poetry: महज चेचिस पर ही झुर्रियों ने ली...

Leave a Reply

Your email address will not be published.