Heavy Tauktae Cyclone

Heavy Tauktae Cyclone: केरल में भारी बारिश, अगले 24 घंटे में लेगा विकराल रूप

FacebookTwitterLinkedInWhatsAppTelegram

Heavy Tauktae Cyclone in Arabian Sea: अरब सागर से उठ रहा इस साल का पहला और खतरनाक चक्रवाती तौकाते तूफान तेजी से आगे बढ़ रहा है। इस चक्रवात के चलते शुक्रवार को केरल के कोट्टायम तट पर भारी वर्षा हुई। मौसम विभाग के अनुसार, अगले 24 घंटों में यह विकराल स्वरूप ले लेगा और इसके 18 मई की सुबह तक गुजरात पहुंचने की भी संभावना है। इसके कारण जहां भारी तबाही की संभावना भी व्यक्त की गई है। वहीं, एनडीआरएफ ने राहत कार्य के लिए 53 टीमों को तैनात करने की तैयारी भी कर ली है।

Heavy Tauktae Cyclone

मिली जानकारी के मुताबिक, तूफान तौकाते की दस्तक के कारण शुक्रवार को कोट्टायम में भारी बारिश हुई। मौसम विभाग ने भी अलग-अलग जगहों पर भारी से बहुत भारी बारिश की संभावना जताई थी। केंद्रीय जल आयोग के मुताबिक, कोट्टायम के अलावा दक्षिण केरल के कुछ इलाकों में सुबह साढ़े आठ बजे से भारी बारिश हुई। उम्मीद है कि जैसे-जैसे तूफान आगे बढ़ेगा कर्नाटक, महाराष्ट्र, गोवा और लक्षद्वीप के तटीय इलाकों में भारी बारिश के साथ तेज हवाएं चलेंगी।

भारतीय मौसम विभाग के अनुसार गुरुवार को अरब सागर और लक्षद्वीप क्षेत्र में दबाव का क्षेत्र बना और शनिवार तक तूफान तौकाते के गहरे दबाव में बदलने की संभावना है। यहां से चक्रवाती तूफान का रूप लेते हुए अगले 24 घंटों में यह और आगे बढ़ेगा। इसके बाद कहर का रूप लेते हुए यह तूफान उत्तर की ओर बढ़ेगा और उत्तर-पश्चिम दिशा में आगे बढ़ेगा। तौकाटे 18 मई की शाम तक गुजरात के तट और उससे सटे पाकिस्तानी तटीय क्षेत्र से टकरा सकता है और वहां भारी तबाही की आशंका है।

Heavy Tauktae Cyclone का मतलब

आपको बता दे कि भारतीय तट से गुजरने वाले साल के पहले चक्रवाती तूफान को म्यांमार ने ‘तौकाते’ नाम दिया है, इसका मतलब ‘गेको’ यानी की छिपकली होता है। चक्रवात तौकाते से मोर्चा संभालने के लिए पांच राज्यों में एनडीआरएफ की 53 टीमें तैयार हैं। एनडीआरएफ के महानिदेशक एसएन प्रधान ने शुक्रवार को ट्वीट किया कि इनमें से 24 को केरल, कर्नाटक, तमिलनाडु, गुजरात और महाराष्ट्र में तैनात किया गया है, बाकी 29 टीमों को तैयार रखा गया है.

Heavy Tauktae Cyclone Weather Warning 

मौसम विभाग ने भविष्यवाणी की है कि अरब सागर से निकलने वाला तौकाते 16-19 मई तक बेहद भीषण चक्रवाती तूफान में बदल जाएगा। इसके साथ ही शुक्रवार को अलर्ट जारी किया गया है कि गुजरात समेत आसपास के अन्य तटीय इलाकों में 175 किमी प्रति घंटे की रफ्तार से हवाएं चलेंगी.

चक्रवाती तूफान की चेतावनी के बाद शुक्रवार को महाराष्ट्र के रायगढ़ तट पर मछुआरे 142 नावों के साथ लौटे हैं। मौसम विभाग के मुताबिक, तूफान (Heavy Tauktae Cyclone) 16 मई को मुंबई और कोंकण से गुजर सकता है। अरब सागर से सटे इन इलाकों में भारी बारिश होगी। वहीं, रत्नागिरी, सिंधुदुर्ग जिलों में रविवार और सोमवार को भारी से बहुत भारी बारिश होने की संभावना है.

 यह भी पढ़ें…

Chant Jai Shri Ram: “श्री राम का जाप” नहीं किया, तो डाल दिया खौलता हुआ पानी