Life living poetry: ये साली ज़िन्दगी…

Life living poetry: ये साली ज़िन्दगी…

                                                Life living poetry in Hindi

                                                                            खुदी से एक जंग का ऐलान है ज़िन्दगी,

                                     कदम दर कदम एक इम्तहान है ज़िन्दगी.

                                     चिलमन से बाहर झांको तो जहान है जिंदगी,                                                      
                                                                           चार दिवारी में तन्हा शमशानहै ज़िन्दगी.
                                    कभी भरी महफ़िल में सुनसान है ज़िन्दगी,                                                        
                                 और कभी विरानो में जश्नोंजान है ज़िन्दगी.

Life living poetry in Hindi

                                   किसी से फ़कत उम्मीदों का अरमान है ज़िन्दगी,                                                   
                                  तो किसी से फ़कत रुसवाई का फ़रमान है जिन्दगी.
                                  कहीं चिरागों के ग़र्दिशमें शशिसी शान है ज़िन्दगी,                                              
                                  तो कहीं पलकों पे करवट लेती ख़्वाबों की खान है ज़िन्दगी.
                                  रब का एक अनौखा और अतुल्य वरदान है ज़िन्दगी,                                             
जो भी है,जैसी भी हैमेरी पहचान है ज़िन्दगी.
 
 

Leave a Reply

Your email address will not be published.