Chaitra Navratri 2021 Importance: कलश स्थापना का मुहूर्त और महत्व, वीडियो देखें

Chaitra Navratri 2021 Importance
Chaitra Navratri 2021 Importance
Views: 24
0 0
Read Time:7 Minute, 7 Second

Chaitra Navratri 2021 Importance Ghatasthapana Puja Vidhi Shubh Muhurt: चैत्र नवरात्रि कल से यानी मंगलवार 13 अप्रैल से शुरू हो रहे हैं। नवरात्रि को भारत में देवी दुर्गा की पूजा का सबसे बड़ा त्योहार माना जाता है, जो नौ दिनों तक चलता है। नौ दिनों तक चलने वाले इस पर्व पर, माँ दुर्गा के नौ अलग-अलग रूपों की पूजा की जाती है।

हिंदू पंचांग के अनुसार, हर साल 5 नवरात्रि पड़ती हैं, जहां चैत्र नवरात्रि और शरद नवरात्रि सबसे प्रमुख हैं, जबकि कई राज्यों में, पौष, आशा और माघ गुप्त नवरात्रि भी इन दोनों के अलावा मनाई जाती हैं।

चैत्र नवरात्रि मंगलवार 13 अप्रैल से शुरू हो रही है और बुधवार, 21 अप्रैल को नवमी तिथि के साथ समाप्त होगी। नवरात्रि के पहले दिन घटस्थापना महत्वपूर्ण है। इस दौरान, शुभ मुहूर्त के अनुसार, भक्तगण पूरे विधि-विधान के साथ घटस्थापना करते हुए मां शैलपुत्री की पूजा करते हैं। आइए जानते हैं घटोत्कप का शुभ मुहूर्त और उसकी विधि।

हाइलाइट्स

CLICK  Mata Hari:एक जासूस,डांसर,रखैल और कामुक बला

Chaitra Navratri 2021 Importance – Muhurt

चैत्र नवरात्रि 2021 घटस्थापना मुहूर्त
दिनांक: 13 अप्रैल 2021, मंगलवार
घटस्थापना मुहूर्त: 05:58:27 से 10:14:09 तक
अवधि: 4 घंटे 15 मिनट

हिंदू पंचांग के अनुसार, चैत्र नवरात्रि चैत्र शुक्ल प्रतिपदा से शुरू होती है। इस समय के दौरान घटस्थापना या कलश स्थापना परंपरा है, क्योंकि इस कलश को शास्त्रों में भगवान गणेश का नाम दिया गया है। यही कारण है कि पूरे विधि-विधान के साथ शुभ मुहूर्त के अनुसार घटस्थापना पूजा की जानी चाहिए।

Chaitra Navratri 2021 Importance and Video

शास्त्रों के अनुसार, देवी शैलपुत्री को मां दुर्गा का पहला रूप माना जाता है। पर्वत राज हिमालय की पुत्री होने के कारण माता के इस रूप का नाम शैलपुत्री रखा गया। उनके वाहन वृषभ के होने के कारण, मनसिलापुत्री को देवी वृषारुधा के नाम से भी जाना जाता है। मां शैलपुत्री के रूप की बात करें तो उनके दाहिने हाथ में त्रिशूल और बाएं हाथ में कमल का फूल सुशोभित है। इसके अलावा, भारत के कई राज्यों में माता के इस रूप को सती नाम से भी जाना जाता है।

हिन्दू दो नवरात्रों को बहुत ही धूमधाम से मनाते हैं। पहला चैत्र नवरात्रि और दूसरा क्वार नवरात्रि। इस बार चैत्र नवरात्रि कल यानि मंगलवार से शुरू होगी। नवरात्रि के नौ दिनों के दौरान मां दुर्गा के नौ रूपों की पूजा की जाएगी। माँ अपने भक्तों पर दया करेंगी। भले ही कोरोना संक्रमण के कारण कुछ प्रतिबंध होंगे, भक्तों में विश्वास की कमी नहीं है। घरों में भी नवरात्रि को औपचारिक रूप से मनाने के लिए तैयारियाँ जोरों पर हैं।

चैत्र नवरात्र और नव संवत्सर 13 अप्रैल 2021 से शुरू होगा। प्रतिपदा तिथि 12 अप्रैल को सुबह 8 बजे से शुरू की गई है, जो 13 अप्रैल की सुबह 10:16 तक चलेगी। 13 अप्रैल को सूर्योदय के समय प्रतिपदा तिथि होगी, इसलिए कल मंगलवार को कलश स्थापित करना श्रेष्ठ रहेगा। इस बार नवरात्रि में किसी तिथि का कोई नुकसान नहीं है यानी नवरात्रि नौ दिनों की होगी। 21 अप्रैल को भगवान राम की जयंती रामनवमी के रूप में नवमी तिथि पर मनाई जाएगी। ज्योतिषाचार्य अमित बहोरे बताते हैं कि अभिजीत मुहूर्त 13 अप्रैल को सुबह 13:38 बजे से 13 अप्रैल की सुबह 5:42 बजे सुबह 9:56 बजे तक कलश स्थापना के लिए है।

चैत्र नवरात्र और नव संवत्सर 13 अप्रैल 2021 से शुरू होगा। प्रतिपदा तिथि 12 अप्रैल को सुबह 8 बजे से शुरू की गई है, जो 13 अप्रैल की सुबह 10:16 तक चलेगी। 13 अप्रैल को सूर्योदय के समय प्रतिपदा तिथि होगी, इसलिए कल मंगलवार को कलश स्थापित करना श्रेष्ठ रहेगा। इस बार नवरात्रि में किसी तिथि का कोई नुकसान नहीं है यानी नवरात्रि नौ दिनों की होगी। 21 अप्रैल को भगवान राम की जयंती रामनवमी के रूप में नवमी तिथि पर मनाई जाएगी। ज्योतिषाचार्य अमित बहोरे बताते हैं कि अभिजीत मुहूर्त 13 अप्रैल को सुबह 13:38 बजे से 13 अप्रैल की सुबह 5:42 बजे सुबह 9:56 बजे तक कलश स्थापना के लिए है।

चैत्र नवरात्र और नव संवत्सर 13 अप्रैल 2021 से शुरू होगा। प्रतिपदा तिथि 12 अप्रैल को सुबह 8 बजे से शुरू की गई है, जो 13 अप्रैल की सुबह 10:16 तक चलेगी। 13 अप्रैल को सूर्योदय के समय प्रतिपदा तिथि होगी, इसलिए कल मंगलवार को कलश स्थापित करना श्रेष्ठ रहेगा। इस बार नवरात्रि में किसी तिथि का कोई नुकसान नहीं है यानी नवरात्रि नौ दिनों की होगी। 21 अप्रैल को भगवान राम की जयंती रामनवमी के रूप में नवमी तिथि पर मनाई जाएगी। ज्योतिषाचार्य अमित बहोर का कहना है कि 13 अप्रैल को सुबह 5:42 से 9:56 बजे तक अभिजीत मुहूर्त दोपहर 11:38 से 12:29 बजे तक कलश स्थापना के लिए है। (Chaitra Navratri 2021 Importance)

यह भी पढ़ें…

Navratri: 9 माताओं का होगा अपने लालों से मिलन

Shardiya Navratri: ऐसे होगी आपकी मनोकामना पूर्ण

Navratri Fest: विधि-विधान से पूजन करने के नियम

Navratri celebration: हिन्दुधर्म में ही क्यों मनाते है

Happy
Happy
%
Sad
Sad
%
Excited
Excited
%
Sleepy
Sleepy
%
Angry
Angry
%
Surprise
Surprise
%