भारत में नव वर्ष

भारत में नव वर्ष क्यों मनाया जाता है?

Festival Stories Life

भारत में नव वर्ष क्यों मनाया जाता है? भारत में नव वर्ष धन्यवाद संदेश और सुख-समृद्धि की शुभकामनाएं आने वाले समय के संदर्भ में मनाया जाता है। नव वर्ष का त्योहार हमारे समाज में बहुत ही हमेशा से मनाया जाता है और यह देश के विभिन्न हिस्सों में भी मनाया जाता है। नव वर्ष का त्योहार प्राचीन समय से ही मनाया जाता है और इसके मौजूदा रूप में हमारे समाज में अधिकांश लोगों द्वारा धूमधाम से मनाया जाता है।

भारत में नव वर्ष मनाने का इतिहास

वर्ष का इतिहास
वर्ष का इतिहास
भारत में नव वर्ष मनाने का इतिहास प्राचीन समय से ही मनाया जाता है। यह त्योहार हमारे समाज में बहुत ही हमेशा से मनाया जाता है और यह देश के विभिन्न हिस्सों में भी मनाया जाता है। नव वर्ष का त्योहार धन्यवाद संदेश और सुख-समृद्धि की शुभकामनाएं आने वाले समय के संदर्भ में मनाया जाता है। इसके अलावा, नव वर्ष में नए साल की शुरुआत होने के संदर्भ में नयी उमंगों, नयी सोच और नयी संभवतम सफलताओं की उम्मीद होती है।

नव वर्ष शुभ कामना शुभ कामना सन्देश

नव वर्ष की हार्दिक शुभकामनाएं! हमारी आशा है कि आपका नए साल आपकी सभी सपनों और उमंगों की पूर्ति करने वाला होगा। हम आशा करते हैं कि आपके नए साल में सुख, समृद्धि, स्वास्थ्य और सफलता आपके पास होंगी। आपका नव वर्ष आपके जीवन में खुशियों और सफलताओं से भरा हो!
  1. आपका नव वर्ष आपकी सभी सपनों और उमंगों की पूर्ति करने वाला होगा।
  2. हमारी आशा है कि आपके नए साल में सुख, समृद्धि, स्वास्थ्य और सफलता आपके पास होंगी।

नव वर्ष के फनी संदेशों की लिस्ट

नव वर्ष की हार्दिक शुभकामनाएं! हमारे पास कुछ फनी संदेश हैं जो आपके नव वर्ष की धूमधाम और खुशी में भाग लेंगे:

  1. “संभवतम सफलताओं और नए संभवतम उम्मीदों के साथ हो नव वर्ष आपका।”
  2. “हार्दिक शुभकामनाएं हो नव वर्ष आपका। आपकी सभी सपनों और उमंगों की पूर्ति हो!”

प्राचीन नव वर्ष मनाने के तरीके

ancient new year celebration type
ancient new year celebration type

अनेक प्राचीन समाजों में, नव वर्ष मनाने के तरीके अलग-अलग होते हैं। कुछ समाजों में, नव वर्ष धूमधाम से मनाया जाता है, जिसमें शामिल होते हैं जगह-जगह से जुटे हुए टाइगर बंडों, फिराए हुए दर्शनों, नव वर्ष स्पेशल रंगों की धूप, नव वर्ष स्पेशल खाना-पीना, आदि। अन्य समाजों में, नव वर्ष धूमधाम से नहीं, बल्कि शांतिपूर्ण तरीके से मनाया जाता है, जैसे धूपबाजी, धन्यवाद संदेशों की वापसी, पूजा-यज्ञ, आदि।

त्यौहारों की कहानियों (Festival Stories) की ऐसी ख़ास खबरों को प्राफ्त करने के लिए आप हमारी वेबसाइट फ्रीकी फंटूश का फेसबुक पेज लाइक करें और सोशल मीडिया पर हमें फॉलो करें. समय-समय पर प्रकाशित लेख के Notification आपको अपने मोबाइल पर मिलते रहेंगे.

यह भी पढ़ें –

Sri Krishna Janmashtami 2022: दुनियाभर के करीब 90 फीसदी मंदिरों में कान्हा यहाँ बनी पोशाक ही पहनते हैं

Janmashtami 2022: मलेशिया में आधी रात को ‘श्री कृष्ण’ करते है स्नान