Love Affair Poetry: लहरों से अल्फाज़े शिकायत

Love Affair Poetry: लहरों से अल्फाज़े शिकायत

Love Affair Poetry in Hindi

Love Affair Poetry

समंद्दर है गहरा,साहिलों पे है पहरा

लहरों से अल्फाज़े शिकायत क्या करें

जब कश्ती ने बिच भंवर में साथ छोड़ दिया मेरा ,,,,,,अरुण “अज्ञात”

 

Leave a Reply

Your email address will not be published.