Old Age Romantic Poetry: महज चेचिस पर ही झुर्रियों ने ली…

Old Age Romantic Poetry: महज चेचिस पर ही झुर्रियों ने ली…

Old Age Romantic Poetry in Hindi

महज चेचिस पर ही झुर्रियों ने ली अंगड़ाई है
महज हाड़-मांस में ही कल-पुर्जों की हुई घिसाई है
बाखुदा मोहब्बत तो आज भी कतरे-कतरे में उफान पर है
इस नामुराद जमाने ने हम पे बुड़ापे की सिल लगाईं है
यूँ तो तज़ुर्बा जवानी का बेशुमार रहा इस ख़ादिम को
 
Old Age Romantic Poetry in Hindi
 
यूँ तो हुस्न की अनारकलियों ने दिलो-जान से चाहा इस सलीम को
लेकिन अब इन बदनों की हवस से दिलों की हुई रुसवाई है
हम अपने इश्क की मिसाल क्या दे तुमको ऐ जहां वालों
हम अपने हुनर को कैसे सोंप दे तुमको ऐ जहां वालों
डूबकर किया है इश्क ये मुलाक़ात उसी की सच्चाई है !
 

Read more interesting stuff…

Painful Poetry: जाने क्यूँ ये दर्द,मीठा-मीठा-सा लगता है

Funny Buffalo Poetry: भैंस के दूध से एड्स ठीक हो जाता है क्यूँ?

READ  Google Search Poetry: मेरी जान-सर्च इंजन

Leave a Reply

Your email address will not be published.