Ghalib Poetry in Hindi: ऐ ग़ालिब तेरे शहर में,ये कैसी गरमी?

Ghalib Poetry in Hindi freaky funtoosh
Ghalib Poetry in Hindi freaky funtoosh
Views: 9
0 0
Read Time:51 Second

Ghalib Poetry in Hindi

ऐ ग़ालिब तेरे शहर में

ये कैसी गरमी है

कहीं इंसानियत पे अत्याचार

तो कहीं हेवानियत और बेशर्मी है.

किसे बयां करूँ ?

ये शब्दों की सहानुभूति…

कहीं मासूमों से बलात्कार
तो कहीं धर्मान्ध अधर्मी है
ग़ालिब तेरे शहर में
ये कैसी गरमी है
कहींखुल रहा
अय्याशीका बाज़ार,
तो कहीं बढ़ रही कुकर्मी है
निति के दोहे अब
किसी को रास नहीं आते
कहीं वेश्याओं का व्यापार
तो कहीं इंसानों में नदारद नरमी है
ग़ालिब तेरे शहर में
ये कैसी गरमी है?

Read more interesting stuff…

Blitz Birth Poetry-Midnight Miracle!

Sun Rise Poetry: सिसकती साँसों से पूछो,मेरा क्या है?

Happy
Happy
%
Sad
Sad
%
Excited
Excited
%
Sleepy
Sleepy
%
Angry
Angry
%
Surprise
Surprise
%
CLICK  Drunk Student Poetry: उठो लल्लू दारु लाया कुल्ला कर लो

Average Rating

5 Star
0%
4 Star
0%
3 Star
0%
2 Star
0%
1 Star
0%

Leave a Reply

Your email address will not be published.