Life & Death Poetry: मै तो पैदा ही मरने के लिए हुआ हूँ

Views: 426
0 0
Read Time:59 Second

Life & Death Poetry

>>>मौत<<<<

मंदिर भी गया, मस्जिद भी गया,

पूजा भी की, नमाज भी पड़ी,

चर्च भी गया, गुरुद्वारा भी गया,

प्रार्थना भी की, गुरुवाणी भी सुनी,

चारों धाम भी गया, हज-हवन भी किया,

गीता भी गाई, कुरान भी इबादत में आई,

संतों की शरण भी ली, सन्यासी का वेश भी धरा,

दर-दर भिक्षा भी मांगी, घर-घर दुआ भी दी,
धुनी भी रमाई, पाखंडीगिरी भी दिखाई,
कण-कण में खोकर, कण-कण हो गया,
नदियाँ, पर्वत और जंगलों में भ्रमण हो गया,
हरा-भरा शारीर मांस का, हाड़-सा कड़क हो गया,
शून्य से चला था, लो पूरा शतक हो गया,
और अंत में मिला क्या ???
>>>>मौत<<<<

Life & Death Poetry

 
 

Average Rating

5 Star
0%
4 Star
0%
3 Star
0%
2 Star
0%
1 Star
0%

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Next Post

Romantic Poem: Believe Me Love Never Wants

Wed Jul 27 , 2016
Romantic Poem – Believe me…Love never wants…! Do you ever fall in love once? Of course, I do yes from your side,   Believe me…Love never wants…! Hurting anyone, destroying anything, Flirting with beloved, deleting everything, Believe me…Love never wants…! Painful custody, doubtful vigilance, Fraud with the best buddy, banning […]
Romantic Poem freaky funtoosh
Thor: Love and Thunder 20 Cast | Record Breaking Advance Booking