Love Poetry in Hindi: पलकों पे बिठा लूँ तुमको

Views: 42
0 0
Read Time:36 Second

Love Poetry in Hindi

पलकों पे बिठा लूँ तुमको
आंखों में बसा लूँ तुमको
कोई ख्वाब बना लूँ तुमको
ज़रा नज़रों से नजरें तो मिलाओ
कि जीभर के प्यार कर लूँ तुमको
ऐ हसीं नजारों की मलिका
आज निगाहों का गुरुर बना लूँ तुमको
फिर कोई नज़र ना लगे इस हीरे को
की आज नुरे-नज़र बना लूँ तुमको…

Read more interesting stuff…

Crime Poetry in Hindi: दर्द का बाज़ार है,ज़ख्मो का व्यापार है

Love Affair Poetry: लहरों से अल्फाज़े शिकायत

Average Rating

5 Star
0%
4 Star
0%
3 Star
0%
2 Star
0%
1 Star
0%

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Next Post

Crime Poetry in Hindi: दर्द का बाज़ार है,ज़ख्मो का व्यापार है

Sat Apr 14 , 2012
Crime Poetry in Hindi दर्द का बाज़ार है ,ज़ख्मो का व्यापार है बहते खून पसीने का मोल क्या यहाँ ? शराबों में डूबा हुआ गुले गुलजार है | रखैलों ने इज्जत का जिम्मा उठाया है देखो भरी महफिलों में तन-बदन लुटाया है देखो|   धर्मो की धज्जियां उड़ा रहे है […]
Crime Poetry in Hindi freaky funtoosh
Thor: Love and Thunder 20 Cast | Record Breaking Advance Booking