Painful Poetry: जाने क्यूँ ये दर्द,मीठा-मीठा-सा लगता है

Painful Poetry in Hindi

जाने क्यूँ ये दर्द, मीठा-मीठा -सा लगता है
हर ज़ख्म पर कोई, मिश्री घोल रहा हो जैसे
अपने ही आंसुओं पर, दरिया बन गई है ये आँखें
हर नज़र में कोई शख्स,शबनम टटोल रहा हो जैसे
अपनों का कारवां अपनी ही नब्ज़ में शूल सा लगता है
         कतरा कतरा यूँ घुट-घुटकर खुदी को ज़ार-ज़ार कर रहा हो जैसे
ऐ जहां वालों अब तो विराना ही अपना ताजमहल लगता है
                      शीशों के घरोंदो में दम साँसों का,बार-बार लुट रहा हो जैसे !

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Next Post

Children Poetry in Hindi: ना दूध ना चाय बस दारु-सुट्टा...

Wed Aug 10 , 2022
        Children Poetry in Hindi        दिल तो बच्चा है जी ना दूध ना चाय माँगता है जी उठते सोते बस दारु–सुट्टा माँगता है जी चूँकि दिल तो बच्चा है जी |        हर गली–दौराहे–तिराहे और चौराह पर     गुजरती हुई कमसिन कुड़ियों […]
Children Poetry in Hindi freaky funtoosh




Chief Editor

Arun Pancholi

Quick Links

Top 10 Secrets About Kylie Jenner
Top 10 Secrets About Kylie Jenner