Romantic Thirst Poetry: जाने किस बरसात,बुझेगी मेरी प्यास

Romantic Thirst Poetry
Romantic Thirst Poetry
Views: 16
0 0
Read Time:1 Minute, 17 Second

उसकी याद दिलाती हे ,

उसका चेहरा बताती हे,

मंद-मंद बहते हुए यूँ

गुनगुनाती हे उसका नाम,

ये ढलती हुई शाम |

हाइलाइट्स

CLICK  So Sad! Party Drink in Toilet: लड़की ने टॉयलेट में बनाई पार्टी ड्रिंक, वीडियो

Romantic Thirst Poetry in Hindi

उसके प्यार का विश्वाश दिलाती हे,
उसके प्यार का एहसास दिलाती हे,
चोरी-चोरी,चुपके -चुपके यूँ
मुजको सुनाती हे उसका पैगाम,
ये ढलती हुई शाम |

 

धीरे-धीरे से ढलती जाती हे,
उसका हर हाले दिल सुनाती हे,
कभी मै ना मिलूं उसको तो  यूँ 
मचा देती हे भयंकर कोहराम,
ये ढलती हुई शाम |
किरणों में उसकी आँखे चमकती हे,
हर तरफ सिर्फ उसकी झलक छलकती हे,
ऐसे -वैसे बलखाती,लहराती यूँ
मेरे दिल को देती हे सुकून-ओ-आराम,
ये ढलती हुई शाम |
मुज पर शबनम-सी छा जाती हे,
मुझे अपने में समाँ लेती हे ,
हर घड़ी हर पल हर लम्हा यूँ
उसकी मोहब्बत का पिलाती हे जाम,
ये ढलती हुई शाम |

 

CLICK  Love Poetry in Hindi: मै उसकी अदाओं का आशिक

Read more interesting stuff…

Painful Poetry: जाने क्यूँ ये दर्द,मीठा-मीठा-सा लगता है

Old Age Romantic Poetry: महज चेचिस पर ही झुर्रियों ने ली…

Happy
Happy
%
Sad
Sad
%
Excited
Excited
%
Sleepy
Sleepy
%
Angry
Angry
%
Surprise
Surprise
%

Average Rating

5 Star
0%
4 Star
0%
3 Star
0%
2 Star
0%
1 Star
0%

Leave a Reply

Your email address will not be published.