Son & Daughter Day Poem-माँ की खोज में

Son & Daughter Day Poem-माँ की खोज में

Son & Daughter Day Poem in Hindi

पूरबपश्चिम,उत्तरदक्षिण,
दरदर दिशा नापता हूँ रोज मै,
बस माँ की खोज में |
          पर्वतपहाड़,
          झीलसमंदर,
          दरदर भटकता हूँ रोज मै,
          बस माँ की खोज में |
Son & Daughter Day Poem
चाँदसूरज,
धराअम्बर,
दरदर तकता हूँ रोज मै,
बस माँ की खोज में |
 
                                                                    फलफूल,नदीजंगल,
           दरदर पता पूछता हूँरोज  मै,
          बस माँ की खोज में |
 
        पशुपक्षी,
       किटपतंगा,
       दरदर सुनता हूँ रोज मै,
       बस माँ की खोज में |
 
                             मंदिरमस्ज़िद,
                             काबाकैलाश,
                             दरदर शीश झुकाता हूँ रोज मै,
                             बस माँ की खोज में |
 
             गीतग़ज़ल,
             बोलभजन,
             दरदर सुनता हूँ रोज मै,
             बस माँ की खोज में |
 
रिश्तेनाते,
दोस्तीयारी,
दरदर निभाता हूँ रोज मै,

                       बस माँ की खोज में |    

READ  Hindi Poem: हाय तेरे होठों की लाली
READ  Painful Poetry: जाने क्यूँ ये दर्द,मीठा-मीठा-सा लगता है

Son & Daughter Day Poem Video

                              
Read more interesting stuff…

Son and Daughter Day-मैंने माँ को देखा है

Mothers Day Poem-My heaven is only under your feet

Leave a Reply

Your email address will not be published.