Funny Frog Poetry in Hindi दादुर कहे आज उदर मे बड़ी उथल पुथल है, पत्तों पे लेटा टमी थामे दादुर बड़ा व्याकुल है, नैना सातवे आसमान पर ख्यालों मे झूल है, तन-बदन,अंग-अंग सारा यौवन बड़ा शिथिल है, बदरिया गरजे आवाजों की शंक्नाद पल-पल है, ऐसा प्रतीत हो रहा जैसे लूज़ […]




Chief Editor

Arun Pancholi

Quick Links

Why It’s over for Kim and Pete?
Why It’s over for Kim and Pete?