कोका कोला से मछलियों को खट्टे डकार आते है

                                                                                                …

महज चेचिस पर ही झुर्रियों ने ली अंगड़ाई है

महज चेचिस पर ही झुर्रियों ने ली अंगड़ाई है महज हाड़-मांस में ही कल-पुर्जों की हुई घिसाई है बाखुदा मोहब्बत तो आज भी कतरे-कतरे में उफान पर है इस नामुराद…

सोचने का अंदाज़ बदलो,बस

सोचने का अंदाज़ बदलो दुनिया बदल जायेगी शुलों को गुलों में बदलते चलो मंजिल खुद दोड़ी चली आएगी दुश्मन को भी दोस्त बनाते चलो दोस्ती की मिसाल बड़ जायेगी सोचने…

दर्द का बाज़ार है,ज़ख्मो का व्यापार है

दर्द का बाज़ार है ,ज़ख्मो का व्यापार है बहते खून पसीने का मोल क्या यहाँ ? शराबों में डूबा हुआ गुले गुलजार है | रखैलों ने इज्जत का जिम्मा उठाया…

उठो लल्लू दारु लाया कुल्ला कर लो

                                   उठो लल्लू               अब आँखे खोलो                 दारू लाया                 कुल्ला कर लो…

मेरी जान-सर्च इंजन

यु ट्यूब में नहाकर आई हो, या देसी ठर्रा पीकर आई हो,  गूगल गम खाकर आई हो, या कोलावेरी डी गाकर आई हो |                               याहू का सिर्फ यम्मी यकिन…

जाने किस बरसात,बुझेगी मेरी प्यास

उसकी याद दिलाती हे , उसका चेहरा बताती हे, मंद-मंद बहते हुए यूँ गुनगुनाती हे उसका नाम, ये ढलती हुई शाम | उसके प्यार का विश्वाश दिलाती हे, उसके प्यार…

काश,मेरे सिने में भी दिल होता पारो

काश, की मेरे सिने में भी दिल होता, मेरे ना सही, किसी और के सिने में धड़कता, उसके एहसासों का मनचला मंज़र, यूँ मेरी साँसों की लहरों से गुजरता, वो…