Shardiya Navratri India 

Shardiya Navratri: ऐसे होगी आपकी मनोकामना पूर्ण

Shardiya Navratri: शारदीय नवरात्रि में देवी साधना का विशेष महत्व है, नवरात्रि में माता के नो स्वरूपों का पूजन अर्थात साधना की जाती है. नवरात्रि में देवी का प्रत्येक दिन उनके एक विशेष रूप को लेकर होता है. यदि कोई भक्त अपनी कोई इच्छा या मनोकामना से देवी के उस विशेष रूप की पूजा करता है तो वह शीघ्र ही माता की अनुकम्पा प्राप्त कर लेता है.   यदि किसी व्यक्ति का चित स्थिर नहीं है या उसके मनोबल में किसी भी प्रकार की कमी है तो वह पर्वत राज…

Read More
Navratri India 

Navratri: 9 माताओं का होगा अपने लालों से मिलन

Navratri: देवी जगदम्बा की नो शक्तियां अर्थात नो स्वरुप है जिनके प्रथक-प्रथक नाम इस प्रकार से है: प्रथम का नाम शैल पुत्री(जिन माता ने पारवती देवी के रूप में पर्वत राज हिमालय के घर में जन्म लिया), दूसरी शक्ति का नाम ब्रह्मचारिणी(ये वो शक्ति है जो परब्रह्म का साक्षात्कार कराती है), माता की तीसरी शक्ति का नाम चन्द्रघंटा है अर्थात जिस देवी के घंटा में चन्द्रमा स्थित है.    इसी प्रकार माताजी की चतुर्थ शक्ति कुष्मांडा है(तीनों ताप्युक्त जगत जिनके उदर में विद्यमान है). पांचवा स्वरुप स्कन्द माता अर्थात कार्तिकेय…

Read More
Navratri Fest India 

Navratri Fest: विधि-विधान से पूजन करने के नियम

Navratri Fest : पुराणों में पूजन की पांच विधियाँ बताई गई है, पहला सफाई (अभिगमन) दूसरा उपादान(गंध पुष्प आदि पूजन सामग्री का संग्रह) तीसरा योग (अपने इष्ट देव की आत्मरूप से भावना करना) चौथा सवाध्याय(मन्त्र जप, सूक्त स्त्रोत, नाम गुण आदि का कीर्तन करना) पांचवा इज्या(इसमें षोडषोपचार अर्थात सोलह प्रकार के उपचार सम्मिलित है.   यह षोडषोपचार इस प्रकार है: आसन स्वागत पाद अर्ध्य कलश आचमन मधुपर्क स्नान वस्त्र आभूषण सुगन्धित द्रव्य पुष्प धूप दीप नैवेद वंदना. नवरात्रि के नो दिनों में आप जितनी भक्तिभाव से माता दुर्गा की पूजा…

Read More