Tag: Romantic Thirst Poetry

Romantic Thirst Poetry

Romantic Thirst Poetry: जाने किस बरसात,बुझेगी मेरी प्यास

उसकी याद दिलाती हे , उसका चेहरा बताती हे, मंद-मंद बहते हुए यूँ गुनगुनाती हे उसका नाम, ये ढलती हुई शाम | Romantic Thirst Poetry in Hindi उसके प्यार का विश्वाश दिलाती हे, उसके प्यार का एहसास दिलाती हे, चोरी-चोरी,चुपके […]

Continue Reading